Minerals क्या होते है ? खनिज के प्रकार, लाभ, हानि, मुख्य स्रोत आदि।

दोस्तों वर्तमान समय में health एक बहुत बड़ा मुद्दा बन गया है, क्योंकि पहले के मुकाबले आज का इंसानी शरीर उतना स्वस्थ नहीं रह गया हैं,जितना हुआ करता था, जिसके चलते लोग अपने स्वास्थ्य को सही बनाए रखने के लिए चिंतित रहते हैं। तो ऐसे में आपको सही खानपान आदि के बारे में पता होना चाहिए। Vitamin, protein आदि हमारे शरीर के लिए कितना जरूरी होता है यह सभी को पता होगा, परंतु ऐसे कम लोग होंगे जो Minerals क्या होते है ,कैसे काम करता है तथा यह किस तरह हमारे शरीर के लिए फायदेमंद होता है, इस बात से परिचित होंगे।

यदि आप भी उनमें से हैं जो minerals के बारे में जानना चाहते हैं और आपको अभी तक minerals(खनिज) के बारे में अच्छे से नहीं पता है, तो आज के हमारे इस पोस्ट खनिज क्या होते हैं what is minerals | Minerals क्या होते है, को पूरा पढ़ने के बाद आप minerals के प्रकार, लाभ, हानि, मुख्य स्रोत आदि के बारे में लगभग सारी जानकारी जान जाएंगे।

हमारे द्वारा दी गई जानकारी बहुत ही गहरी research व वैज्ञानिक तर्क पर आधारित होता है। इस प्रकार के जनकारी को काफी रिसर्च करके सही knowledge आप तक इस पोस्ट के माध्यम से पहुंचाना हमारा उद्देश्य होता है। इस article को पढ़ने के बाद आपको और कहीं जाने की कोई आवश्यकता नहीं पड़ेगी। तो दोस्तों आइए जानते हैं कि मिनिरल्स(खनिज) क्या होते हैं? इसके प्रकार, लाभ, हानि आदि के बारे में विस्तार से। यह जानकारी निम्न प्रकार से है।

Read Also

Hath Ka Motapa Kam Karne ke upay

Tilli badh jaye usse thik kaise kare ? तिल की समस्या कैसे ठीक करे |

Minerals क्या होते है परिभाषा? What is minerals?

खनिज एक अकार्बनिक पदार्थ होते हैं, जिसे हम अंग्रेजी में minerals के नाम से भी जानते हैं। यह एक ऐसा प्रमुख पोषक तत्व होता है जो शारीरिक स्वास्थ्य को सही बनाए रखने में सहायता प्रदान करता है। मिनरल्स भी विटामिन व प्रोटीन की भांति ही nutrition का एक प्रमुख भाग है। दोस्तों आपने आवर्त सारणी तो देखी ही होगी जिसमें अनेकों प्रकार के अलग-अलग elements को उनके परमाणु क्रमांक के बढ़ते क्रम के अनुसार रखा गया है, वास्तव में यह minerals आवर्त सारणी के elements में से ही होते हैं, जिसमें से मुख्यतः 10 तत्व को न्यूट्रिशन के अंतर्गत रखा गया है।

हालांकि इसके अलावा भी और कई न्यूट्रिशन खनिज होते हैं। जिस प्रकार विटामिन, प्रोटीन कार्बोहाइड्रेट की आवश्यकता एक उचित अनुपात में होती है, उसी प्रकार खनिज की भी आवश्यकता शरीर को उचित अनुपा में जरूरी होती है क्योंकि इनका अत्यधिक व न्यूनतम मात्रा दोनों ही स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकते हैं।

खनिज विज्ञान क्या है? What is mineralogy?

दोस्तों खनिज विज्ञान जिसे अंग्रेजी में mineralogy कहा जाता है जो कि भू विज्ञान की एक प्रमुख शाखा होती है। इसके अंतर्गत खनिजों के भौतिक व रासायनिक गुणों का अध्ययन किया जाता है तथा खनिजों के निर्माण, वर्गीकरण, बनावट आदि को भी शामिल किया जाता है। दोस्तों शुरुआती दिनों में यूनान के प्रमुख दार्शनिक सुकरात द्वारा सबसे पहले खनिज की उत्पत्ति व उनके गुणों को सिद्धांत रूप में प्रस्तुत किया गया था। बाद में 16वीं शताब्दी के बाद जर्मन के वैज्ञानिक जॉर्जियस एग्रिकोला के प्रयासों से खनिज विज्ञान ने आधुनिक रूप में अपना कदम रखना शुरू किया।

प्रमुख खनिज के प्रकार? Types of minerals?

दोस्तों खनिज के अनेक प्रकार होते हैं परंतु मुख्यता nutrition के अंतर्गत आने वाले खनिजों की मुख्य संख्या 10 होती है जिसे दो भागों में वर्गीकृत किया जा सकता है। अल्प खनिज तथा बहुल खनिज इनके अंतर्गत 10 खनिज को बांटा गया है जो निम्न है।

(अ) अल्प खनिज:-

यह ऐसे खनिज होते हैं जिनकी आवश्यकता हमारे शरीर को बहुत ही कम मात्रा में होती है यह निम्न है।


१) Iron:

आयरन हमारे शरीर में हिमोग्लोबिन को बढ़ाने का काम करता है तथा विटामिन b9 के निर्माण में भी सहायक होता है।

२) Iodine:

यह खनिज हमारे शरीर के लिए बहुत ही आवश्यक होता है जो घेंघा नामक रोग को दूर रखता है तथा थायरोक्सिन नामक हार्मोन के निर्माण में भी सहायक होता है।

३) Cobalt:

कोबाल्ट विटामिन b12 का एक प्रमुख घटक होता है अतः यह मानव शरीर के लिए जरूरी तथा शरीर में कई प्रमुख प्रकार के enzymes के निर्माण में भी सहायक होता है।

४) Fluorine:

फ्लोरीन की कम मात्रा दांतों के लिए हानिकारक होता है यदि इसकी अधिकता हो तब भी यह दातों के लिए समस्या बन जाती है अतः इसकी उचित मात्रा जरूरी है।

५) Zink:

जिंक हमारे शरीर में इंसुलिन नामक हार्मोन का निर्माण करने में सहायक होता है जिससे शुगर की समस्या दूर रहती है।

(ब) बहुल खनिज:-

इस खनिज की आवश्यकता हमारे शरीर को अधिक मात्रा में होती है जो कि निम्न है।


१) Calcium:

यह खनिज हमारे शरीर में उपस्थित हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए जिम्मेदार होता है। इसकी कमी से हमें हड्डी संबंधी रोग हो सकते हैं तथा यह विटामिन k के साथ मिलकर ब्लड क्लोटिंग में भी सहायक होता है।

२) Potassium:

पोटेशियम खनिज हमारे शरीर में सोडियम की उपस्थिति को बैलेंस रखता है।

३) phosphorus:

यह खनिज भी हड्डियों के लिए फायदेमंद होता है तथा जैविक ऊर्जा का निर्माण करता है।(ATP)

४) Chlorine:

क्लोरीन हमारे शरीर में HCL Acid के निर्माण में सहायक होता है जिससे खाना अच्छे से पचने में मदद मिलती है‌‌।

५) Sodium:

सोडियम हमारे ब्रेन तक किसी भी मैसेज को ट्रांसफर करने में सहायक होता है तथा पेशियों के संकुचन में भी मददगार होता है।

खनिज के लाभ? Benefit of minerals?

दोस्तों यदि आपके शरीर में मिनरल्स अर्थात खनिज की कमी नहीं है तो आपको इसके अनेक फायदे देखने को मिल सकते हैं जो शरीर के विकास हेतु अति आवश्यक होते हैं जैसे:-

  • १) आपके शरीर के हड्डियों को स्वस्थ बनातीं है जिससे आपका शरीर मजबूत रहता है।
  • २) चक्कर आने की समस्या से दूर रखता है।
  • ३) आपके शरीर में ब्लड की कमी को रोकता है।
  • ४) किसी प्रकार की कोई कमजोरी नहीं लगती तथा ऊर्जा बनी रहती है।
  • ५) गंभीर बीमारी जैसे शुगर थायराइड आदि से दूर रखता है।
  • ६) आपके शरीर में ब्लड प्रेशर को कंट्रोल रखता है।
  • ७) शरीर में आलस नहीं आता है।
  • ८) आपका पाचन क्रिया सही रहता है।
  • ९) आप सोचते रहेंगे तथा आपका शरीर ऊर्जावान रहेगा।

खनिज से समस्या या हानि? Khanij ke Hani?

यदि आपको शरीर में खनिज की मात्रा ऊपर नीचे हो जाए तो आपको निम्न प्रकार की हानि या समस्या हो सकती है।

  • १) आपका शरीर कमजोर और ऊर्जा रहित हो जाएगा।
  • २) एसिडिटी और गैस की समस्या हो सकती है।
  • ३) आपको बार बार चक्कर आ सकते हैं।
  • ४) आपके दांत या हड्डियां कमजोर हो सकती हैं।
  • ५) आपके शरीर में भारी मात्रा में RBC की कमी आ सकती है।
  • ६) आपके दिमाग को किसी भी प्रकार के मैसेज मिलने में समस्या सकती है।
  • ७) आपका ब्लड प्रेशर ऊपर नीचे हो सकता है।

शरीर में खनिज की मात्रा? Sharir mein khanij ki Matra pratishat mein?

अभी तक आपने खनिज के लाभ, हानि, प्रकार आदि के बारे में जान चुके हैं। तो आइए जानते हैं कि शरीर में खनिज की उचित मात्रा आखिर कितनी होनी चाहिए इसके बारे में। हमारे शरीर में लगभग 29 तत्व पाए जाते हैं जिसमें से कार्बन-18%, नाइट्रोजन-3%, मैग्निशियम-0.004%, क्लोरीन-0.15%, फास्फोरस-1%, सल्फर-0.25% तथा अन्य 0.046% पाए जाते हैं। इसके अलावा 12% खनिज लवण एवं विटामिन पाए जाते हैं।

खनिज के कमी के लक्षण? Khanij ke Kami ke lakshan?

खनिज की मात्रा शरीर में कम हो जाए तो निम्न लक्षण दिखाई दे सकते हैं।

  • १) खून की कमी होना।
  • २) बार बार चक्कर आना।
  • ३) जल्दी थक जाना व आलस आना।
  • ४) दातों में कमजोरी दिखाई देना।
  • ५) हाथ व पैर की हड्डियों का कमजोर होना।
  • ६) घाव होने पर जल्दी ठीक ना होना।
  • ७) पेशियों में संकुचन ठीक से ना होना।
  • ८) ब्लड प्रेशर ऊपर नीचे होना आदि।

खनिज की कमी व अधिकता से होने वाली बीमारियां? Khanij ki Kami or adhikta se hone wali bimariyan?

(अ) खनिज कम होने पर:


Anemia
Goita
Sugar
Osteoporosis
Kidney stone
Indigestion
Hypokalemia and hyperkalemia etc.

(ब) खनिज अधिक होने पर:


Syndrome
Hypoglycemia
Polycythemia
Oshoporesis
Kidney stone
Indigestion
HBP and LBP etc.

खनिज के स्रोत? खनिज किसमें पाए जाते हैं? Source of minerals?

बहुत से लोगों के मन में यह सवाल रहता है कि आखिर खनिज किस में तथा कहां पाया जाता है। यह अरे कुछ प्रमुख स्रोत जिसमें खनिज पोषक तत्व प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं।
खजूर dates
नमक table salt
दूध milk
मछली fish
सोयाबीन soybean
हरी सब्जियां green vegetables
मांस meat
अंडे egg
ताजे फल fresh fruits
ब्रेड bread तथा सोया सॉस soya sauce. आदि में minerals भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं।

Conclusion

दोस्तों आज के पोस्ट मिनिरल्स(खनिज) क्या होते हैं? प्रकार, लाभ, हानि, मुख्य स्रोत में अपने खनिज के बारे में लगभग सारी बातें जानी। वर्तमान समय में स्वास्थ्य पर अत्यधिक ध्यान देना चाहिए क्योंकि वर्तमान environment प्रदूषित होता जा रहा है। ऐसे में आपको healthy खानपान ही करनी चाहिए। minerals हमारे शरीर के लिए काफी आवश्यक nutrition है अतः आप minerals(खनिज) युक्त food जरूर खाएं। आशा करते हैं कि हमारा आज का यह पोस्ट मिनिरल्स(खनिज) क्या होते हैं? प्रकार, लाभ, हानि, मुख्य स्रोत आपको पसंद आया होगा। यदि कोई सवाल या सुझाव हो तो हमें नीचे comments जरुर करना। धन्यवाद!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *